Rabindranath Tagore

Rabindranath Tagore
Rabindra Sangeet

Tuesday, March 18, 2014

FaceBook

बुरी आदते जो भी है अभी से बदल डालो

मौका मिलते ही तुम फेसबुक खोल डालो

हर पल अपना स्थिति संदेश बदल डालो

मित्रो टिप्पणी मेरी दीवार पर लिख डालो





सुबह हो शाम या फिर दिन हो या रात

करो अपनों से दिल की या फालतू बात

अपनी खतम हो तो करो दूसरों की बात

मित्रो देर सुबेर कर लेना मुझसे तुम बात





लगे छींक, होवे बुखार या हो जाये प्यार

बस जल्दी से लिख डालो ताज़ा समाचार

खुसनसीब होगे तो लग जाएगी भीड़ अपार

बदनसीब होंगे तो मित्र आएंगे बस दो चार





किसी समूह मे यदि न दे कोई आपको भाव

तब बात करो येसी कि बन जाये वो घाव

बनाओ अपना भी समूह खेलो तुम येसा दाँव

उद्देश्य न समझे कोई पर दे आपको केवल भाव





महिलाओं को मिलता यहाँ भी है खूब सम्मान

चाटुकारिता अपनाओ और बढ़ाओ अपना मान

कुछ विवादास्पद कह कर बढ़ाओ अपनी शान

कदम फूँककर रखना ये फेसबुक है भाई-जान





खूब मनाओ और भुनाओं तुम सारे अवसर

उड़ाओ मज़ाक किसी का या करो तिरस्कार

वैसे प्रोफाइल आपका, उसपर आपका अधिकार

कोई आहत न हो यहाँ, इसका करना विचार

No comments:

Post a Comment